चुनावदेशसंपादकीय

अतिरिक्त वोट जुटाने की कोशिश में मोदी का निर्देश

आगामी लोकसभा चुनाव के लिए अभी से ही जुट जाने का निर्देश प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भाजपा के तमाम लोगों को दिया है। उनके भाषण से स्पष्ट है कि वे अब अतिरिक्त वोट जुटाने के लिए अल्पसंख्यकों तक पैठ बनाने की बात करने लगे हैं।

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के दूसरे दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संबोधित किया। प्रधानमंत्री ने बीजेपी नेताओं को नसीहत देते हुए कहा कि मुस्लिम समाज के बारे में गलत बयानबाजी ना करें। उन्होंने कहा कि पसमांदा और बोरा समाज से मिलना चाहिए।

कार्यकर्ताओं के साथ संवाद बनाकर रखना होगा। समाज के सभी वर्गों से मुलाकात करें। चाहे वोट दें या ना दें, लेकिन मुलाकात करें। पार्टी के कई लोगों को अब भी लगता है कि विपक्ष में हैं। पार्टी के कई लोगों को मर्यादित भाषा बोलनी चाहिए। इससे साफ है कि भाजपा को अपने वोट बैंक में सेंधमारी का खतरा समझ में आ गया है।

दरअसल यह समीकरण हाल की महंगाई और राहुल गांधी द्वारा बार बार उठाये जा रहे मुद्दों की वजह से हैं। दूसरी तरफ कई इलाकों में अत्यंत प्रभावशाली रहने वाले किसानों की नाराजगी का क्या असर होगा, इसका एहसास भी कमसे कम श्री मोदी को है।

श्री मोदी ने राजस्थान और छत्तीसगढ़ के कार्यकर्ताओं से कहा कि अति आत्मविश्वास के चलते चुनाव हार गए थे। अति आत्म विश्वास से सभी को बचना चाहिए। सभी को मेहनत करने की जरूरत है। ये सोचना कि ‘मोदी आएंगे, जीत जाएंगे’ इससे काम नहीं चलेगा। सभी को संवेदनशील होने की जरूरत है।

सत्ता में बैठे लोग ये ना समझें कि स्थाई हैं।  इस एक बात से उन्होंने एक साथ कई संदेश दिये हैं और साफ कर दिया है कि पार्टी में अभी फेरबदल हो सकता है। साथ ही उन्होंने अपने कार्यकर्ताओं को इस बात की जिम्मेदारी सौंपी है कि वे सीमा के करीब वाले गांवों में जाकर संगठन को मजबूत करें।

श्री मोदी ने कहा कि अभी लोकसभा चुनाव में 400 दिन बचे हैं। पूरी ताकत के साथ लग जाएं। मोदी ने कहा कि भाजपा अब केवल राजनीतिक आंदोलन भर नहीं है। सामाजिक आंदोलन में बदलना चाहिए। उन्होंने भाजपा मोर्चो के कार्यक्रम के लिए कहा। प्रधानमंत्री ने कहा कि अमृतकाल को कर्त्तव्यकाल में बदलना है।

अब सामाजिक तौर पर अहम भूमिका निभाना है। इसके साथ साथ इस बात पर मोदी के वक्तव्य पर जानकारी देते हुए महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने जो कुछ कहा, उससे भी साफ है कि अब भाजपा को फिर से युवाओं को अपने साथ जोड़ने की आवश्यकता महसूस हो रही है।

दरअसल राहुल की पदयात्रा को देश का युवा वर्ग अब जिस गंभीरता से ले रहा है, वह भाजपा के लिए अतिरिक्त चुनौती है। देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी का भाषण किसी नेता का नहीं, राजनीतिज्ञ की तरह था। उन्होंने देश को पार्टी से ऊपर रखा। प्रधानमंत्री जी ने कहा कि किस प्रकार से हम कुशासन से सुशासन की ओर आए हैं ये संदेश हमें युवाओं तक पहुंचाना है।

18-25 वर्ष से कम आयु के लोगों ने भारत के राजनीतिक इतिहास को नहीं देखा है। उन्हें पिछली सरकारों में हुए भ्रष्टाचार और गलत कामों के बारे में पता नहीं है। इसलिए, उन्हें जागरूक करने और उन्हें भाजपा के सुशासन के बारे में बताने की जरूरत है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि जिस प्रकार से हमने बेटी बचाओ अभियान को सफल बनाया उसी प्रकार से धरती बचाओ अभियान भी चलाना होगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि आकांक्षी जिलों के विकास में भी भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं की भूमिका हो, इसके अतिरिक्त हमारे सभी राज्य एक दूसरे के साथ समन्वय बढ़ाते हुए भावनात्मक रूप से जुड़ें।

हमें सलाह दी गई है कि मोर्चा के कुछ विशेष कार्यक्रम विशेष रूप से सीमावर्ती गांवों में आयोजित किए जाएं, ताकि हम उनसे और जुड़ सकें और हमारी विकास की योजनाएं इन क्षेत्रों तक पहुंचे। भाजपा की दो दिवसीय राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक मंगलवार को संपन्न हो गई।

इस बैठक में भाजपा की ओर से लोकसभा चुनाव की रणनीति तैयार की गई। इसी के तहत भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा के कार्यकाल को 2024 तक बढ़ाया गया। इसके अलावा प्रधानमंत्री मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने भी कार्यकर्ताओं से बात की और उन्हें चुनावों का रोडमैप समझाया।

प्रधानमंत्री मोदी ने भाजपा नेताओं को नसीहत भी दी। उन्होंने कहा कि मुस्लिम समाज के बारे में गलत बयानबाजी न करें। कई के बयान अमर्यादित होते हैं। उन्होंने अपील की कि उन्हें पासमांदा मुस्लिमों और बोहरा समुदाय से मिलना चाहिए।

इसके अलावा उन्हें पढ़े-लिखे और प्रोफेशनल मुस्लिमों से भी बात करनी चाहिए। इसके बदले उनसे वोट की अपेक्षा नहीं की जानी चाहिए। प्रधानमंत्री ने चुनाव को लेकर यह भी कहा कि हमें आत्ममुग्ध नहीं होना है। इन बातों से साफ है कि खुद श्री मोदी यह समझ रहे हैं कि अगला चुनाव कई कारणों से भाजपा के लिए पहले जितना आसान नहीं होगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button