अजब गजबगुजरातमुख्य समाचारराज काजव्यापार

वाइब्रेंट गुजरात में रोबोटों ने स्वागत किया मोदी का

कांग्रेस शासन की बुराइयों का उल्लेख किया प्रधानमंत्री ने

  • बीस साल से चल रहा है आयोजन

  • उस वक्त की केंद्र सरकार ने रोका

  • अपने शासनकाल का भी उल्लेख किया

राष्ट्रीय खबर

अहमदाबादः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वाइब्रेंट गुजरात ग्लोबल समिट की 20 साल की यात्रा को याद किया। उन्होंने कहा कि उस वक्त केंद्र सरकार ने कोई सहयोग नहीं दिया। यहां तक ​​कि केंद्रीय मंत्री भी उन आयोजनों में शामिल नहीं हुए। गुजरात में भी उस समय विदेशियों को निवेश करने से रोकने के लिए डराया धमकाया जाता था। इसके बाद मोदी ने कहा, निवेशक अभी भी यहां आते हैं। उनके लिए कोई प्रोत्साहन नहीं है। वे इसलिए आते हैं क्योंकि वहां सुशासन है।

धन का समान वितरण होता है। यहां पारदर्शी सरकार है। मोदी ने कहा, केंद्रीय मंत्री कहते थे कि हम जरूर आएंगे। पता नहीं वापस वह डंडा चलाता था, वे मना कर देते थे। उन्होंने कभी सहयोग नहीं किया। उन्होंने सड़क भी जाम कर दी। मोदी ने पुराने दिनों को उजागर किया है। उन्होंने कहा, साल 2009 याद है। उस समय सभी ने कहा था कि वाइब्रेंट गुजरात बनाने की जरूरत नहीं है। क्योंकि उस समय दुनिया भर का बाज़ार थोड़ा डाउन था। लेकिन मैं यह सुनना नहीं चाहता था। मोदी ने कहा कि वाइब्रेंट गुजरात सिर्फ गुजरात तक ही सीमित नहीं है। सभी राज्यों को आमंत्रित किया गया था। गुजरात राष्ट्रीय दृष्टिकोण के आधार पर आगे बढ़ता है।

मोदी ने कहा, गुजरात को कभी व्यापारियों का राज्य कहा जाता था। लेकिन 21वीं सदी में गुजरात उत्पादकता, अर्थव्यवस्था, उद्योग और कृषि के मामले में लगातार आगे बढ़ा है। बिजनेस के मामले में यह राज्य काफी आगे बढ़ चुका है। संयोग से, इस वाइब्रेंट गुजरात की शुरुआत नरेंद्र मोदी ने 2003 में की थी। वह तब गुजरात के मुख्यमंत्री थे। इस वर्ष उस व्यापार सम्मेलन की 20वीं वर्षगांठ है। प्रधानमंत्री ने बुधवार को इस कार्यक्रम का उद्घाटन किया। वाइब्रेंट गुजरात ग्लोबल समिट का 10वां संस्करण गांधीनगर में आयोजित किया जाएगा। यह अगले साल 10-12 जनवरी को होगा।

रोबोटिक्स गैलरी में मोदी ने काफी समय व्यतीत किया। रोबोट गैलरी में जाकर प्रसन्नतापूर्वक दिन बिताया। बाद में उन्होंने वह तस्वीर सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दी। प्रधानमंत्री ने गुजरात काउंसिल ऑफ साइंस सिटी की रोबोटिक्स गैलरी का दौरा किया। उनके साथ गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेन्द्र पटेल भी थे। मोदी ने इंस्टाग्राम पर रोबोट के साथ कई तस्वीरें पोस्ट की हैं। एक तस्वीर में रोबोट प्रधानमंत्री को चाय परोसता नजर आ रहा है। अन्य भोजन भी शामिल है।

तस्वीरों के साथ, मोदी ने लिखा, गुजरात साइंस सिटी में अद्भुत रोबोटिक्स गैलरी। रोबोट ने हमें चाय भी पिलाई, वह तस्वीर देखना न भूलें।” उसके एक तरफ चाय का कप है। दूसरी तरफ दो सैंडविच हैं। रोबोट ने पानी की बोतल भी प्रधानमंत्री की ओर बढ़ा दी। उनके सामने मोदी और भूपेन्द्र बैठे थे। प्रधानमंत्री ने रोबोट गैलरी के विभिन्न हिस्सों का दौरा किया।

एक बार फिर उन्हें मोबाइल कैमरे से तस्वीरें लेते देखा गया। उन्होंने गैलरी में व्यवस्थित रोबोट और सभी संबंधित उपकरणों का निरीक्षण किया। यह रोबोटिक गैलरी गुजरात की साइंस सिटी में सबसे नया जुड़ाव है। यह लगभग 11 हजार वर्ग मीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है।

मोदी वाइब्रेंट गुजरात शिखर सम्मेलन के दो दशक पूरे होने के उपलक्ष्य में आयोजित एक कार्यक्रम में भाग लेने के लिए गुजरात में हैं। जब वे गुजरात के मुख्यमंत्री थे तब उन्होंने इस शिखर सम्मेलन की शुरुआत की थी। इसके अलावा वह गुजरात में कई विकास परियोजनाओं का उद्घाटन करेंगे। इस सूची में गांव-गांव वाईफाई सेवा जैसी परियोजनाएं भी शामिल हैं।

लंबे समय बाद प्रधानमंत्री मोदी ने गुजरात दंगों पर बात की। प्रधानमंत्री वाइब्रेंट गुजरात समिट में पहुंचे, जहां उन्होंने 2002 के गुजरात दंगों का जिक्र किया। पीएम मोदी ने दंगों के दौरान एक एजेंडा आगे बढ़ाने के लिए विपक्ष की आलोचना की। प्रधानमंत्री ने कहा कि 20 साल एक लंबा समय होता है। 2001 के भूकंप से दहल गए राज्य को कोई नहीं भूल सकता।

उन्होंने कहा, गोधरा कांड के बाद राज्य में हिंसा फैली। हालाँकि तब उनके पास मुख्यमंत्री के रूप में बहुत कम अनुभव था, लेकिन जनता में उनका विश्वास बहुत था। प्रधानमंत्री ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि गोधरा कांड के वक्त कुछ लोग अपना एजेंडा चला रहे थे। उन्होंने गुजरात को बदनाम करने की साजिश रची। कुछ लोग तथ्यों को तोड़-मरोड़कर नकारात्मकता फैलाते हैं। उन्हें लगा कि राज्य बर्बाद हो गया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button